महिलाओ की भागदौड़ भरी जिन्दगी में वो खुद कर ध्यान नहीं दे पाती है। और यही कारन है की महिलाओ की कई साडी गंभीर बीमारियों का सामना करना पड़ता है। इन्ही में से एक बीमारी है शारीरिक कमजोरी। जो की लगभग सभी महिलाओ की परेशानी का कारण बनी हुई है,महिलाओ में शारीरिक कमजोरी अब आम समस्या बनती जा रही है फिर महिलाये इस बारे में खुलकर बात नहीं करती है और इसी वजह से कमजोरी बढती जाती है। महिलाओ में शारीरिक कमजोरी हो जाने से वो अपने जीवन का आंनद नहीं ले पाती है और अपने पार्टनर को भी संतुस्ट नहीं कर पाती जिससे घर में झगड़े और कलेश बोहोत बढ़ जाता है। महिलाये भी शारीरिक कमजोरी के कारन बोहोत चिड़चिड़ी और गुस्से वाली हो जाती है जो की उनके लिए अच्छा नहीं है।

महिलाओं को यह बीमारी प्रजनन हार्मोंस के संतुलन में गड़बड़ी व मेटाबॉलिज्म खराब होने पर होती है। हार्मोंस असंतुलित होने से मासिक धर्म चक्र प्रभावित होता है और शारीरिक दुर्बलता बढती जाती है। इस  स्थिति में हर माह पीरियड्स के बाद ओवरी (अंडाशय) में अंडाणुओं का निर्माण होता है और बाहर निकलते हैं। वहीं, पीसीओएस (PCOS) की स्थिति में ये अंडाणु न तो पूरी तरह से विकसित हो पाते हैं और न ही बाहर निकल पाते हैं । महिलाओ में शारीरिक समस्या होने से उनमे उत्तेजना की कमी हो जाती हे वे कमजोर महसूस करती है। 

महिलाओं में शारीरिक कमजोरी के लक्षण:-

crying सम्भोग के दौरान दर्द होना।

crying मूत्र प्रणाली और जननांग विकार।

crying योनि विकार।

crying सम्भोग से संतुस्ती मिलना।

crying शारीरिक कमजोरी या थकान।

crying हार्मोनल उतार चढ़ाव।

crying ऊर्जा में कमी।

crying टेस्टोस्टेरोन का स्तर कम होना।

crying योन उत्तेजना और इच्छा की कमी।

 

महिलाओं में शारीरिक कमजोरी के कारण:-

crying अल्कोहोल या केमिकल वाली दवाओं का अधिक सेवन।

crying  समय पर खाना नहीं खाना।

crying  सही से नींद लेना।

crying  डायबिटीस या अन्य बीमारिया होना।

crying  हॉर्मोन्स असंतुलित होना।

crying  जंक फूड या कोल्ड ड्रिंक्स का सेवन।

crying  अधिक तनाव या टेंशन होना।

crying  बहुत अधिक व्यायाम करना।

crying  गर्भावस्था के बाद कमजोरी जाना।

 

हमारे आयुर्व्रेदाचार्य ने 14 दुर्लभ जड़ी बूटियों जैसे अश्वगंधा, शतावरी, दारुहरिद्रा घाना, लोधरा घाना, लौह भस्म, कुक्कुटाण्डत्वक भस्म, नागकेसर और शिलाजीत शुद्ध आदि का संयोजन करके कामिनी कैप्सूल को बनाया है। जो महिलाओं में हार्मोन के स्तर को संतुलित करने में मदद करता है और इस प्रकार मासिक धर्म को नियमित करने में मदद करता है, और महिलाओ की शारीरिक समस्या को जड़ से ख़तम कर देगा।

"कामिनी कैप्सूल" के फायदे :

yes  महिलाओ में उत्तेजना और काम शक्ति बढ़ाता है।

yes  करने के टाइम पीरियड को बढ़ाये।

yes  महिला हार्मोनल प्रणाली को संतुलित करने में मदद करती है।

yes  यौन प्रदर्शन में सुधार होगा।

yes  यौन उत्तेजना, संवेदनशीलता को बढ़ाती है।

yes  सम्भोग पावर बढ़ाने में मदद करती है।

yes  प्रजनन प्रक्रियाओं को नियंत्रित करने में मदद करती है।

yes  शरीर में ऊर्जा को पुनर्जीवित करने में मदद करती है।

 

"कामिनी कैप्सूल" एक ऐसा अद्भुत आयुर्वेदिक उत्पाद है जो महिलाओ में होनेवाली सभी शारीरिक समस्याओ को जड़ से ख़त्म कर देगा।